Top

Upcoming Events:

!! Shrimad Bhagwat Katha, Kaimganj, UP:- 12-12-2022 To 18-12-2022, Time:- 4:00 pm To 7:00 pm, Place: - Kaimganj, Uttar Pradesh !!

गौ सेवा धाम  गाय के गोबर से बने दीपक और धूपबत्ती से देगा स्वदेशी आंदोलन को बढ़ावा।

गौ सेवा धाम गाय के गोबर से बने दीपक और धूपबत्ती से देगा स्वदेशी आंदोलन को बढ़ावा।

दीपावली के अवसर पर क्षेत्र के प्रतिष्ठित गौ सेवा धाम हॉस्पिटल मे गायों की सेवा के साथ साथ जैविक रूप से अब दीपक, धूपबत्ती बनायीं जा रही है।

दीपक स्वचालित रूप से दीपावली से सम्बंधित है जो वर्ष का वह त्यौहार है। जब हम दीपक खरीदते है। दीपक जलाना, अंधकार को दूर करने और बुराई पर अच्छाई की जीत, अज्ञान पर ज्ञान का प्रतीक हैं। इसके अलावा यह माना जाता है कि धन की देवी, लक्ष्मी के स्वागत के लिए, गाय के गोबर से बना दीपक कल्याणकारी होता है।

हॉस्पिटल के माहासचिव प्रत्यक्ष शर्मा  ने बताया की सरकार की वोकल फॉर लोकल नीति को बढ़ावा देने के लिए गो सेवा धाम  मे अब दीपक, धूपबत्ती का उत्पादन कर रहे है। इस कार्य से आसपास के असहाय गोवंश तथा जीव-जंतु के लालन पालन तथा उपचार मे  सहयोग रहेगा। हज़ारो गाय आधारित उद्धमियों /किसानो /महिला उद्धमियों को व्यवसाय के अवसर पैदा करने, गाय के गोबर के उत्पादों के उपयोग से वातावरण स्वच्छ और स्वस्थ बनेगा, साथ ही गाय के गोबर से ही केचुआ की मदद से  जैविक खाद भी तैयार किया जा रहे है ज़िसके प्रयोग से किसान बगैर रसायनिक खाद के ही खेती मै अच्छी  फसल ले सकेंगे,

 इससे गौशाला को 'आत्मनिर्भर' बनने मे भी मदद मिलेगी। चीनी निर्मित उत्पादों की जगह पर्यावरण के अनुकूल विकल्प प्रदान करके, अभियान 'मेक इन इंडिया' विज़न और प्रधानमंत्री नरेंद्र  मोदी के मिशन को बढ़ावा मिलेगा और पर्यावरणीय क्षति को कम करते हुए स्वदेशी आंदोलन को भी बढ़ावा देगा। इसके साथ ही हॉस्पिटल की संचालिका तथा प्रसिद्ध कथवाचिका पूज्य देवी चित्रलेखा जी का कहना है की भारतीय त्यौहार पर विदेशी कंपनी से खरीददारी करना उचित नहीं है। अपने स्थानीय स्तर पर भारतीय सामान कि ही खरीददारी कर उनको आर्थिक रूप से सक्षम बनाये।

Related Blogs

गौ सेवा धाम में महिला सशक्तिकरण को दिया जा रहा है बढ़ावा।

गौ सेवा धाम में महिला सशक्तिकरण को दिया जा रहा है बढ़ावा।

गौ सेवा धाम में महिला सशक्तिकरण को दिया जा रहा है बढ़ावा।

महिलाओं का आत्मनिर्भर होना जरूरी ~ देवी चित्रलेखाजी।

भारतीय नारी ने विदेश में बढ़ाई भारत को शान।

देवी चित्रलेखा जी द्वारा संचालित  गौ सेवा धाम हॉस्पिटल एक बेहतर भारत की तरफ एक बड़ा कदम साबित हुआ है। देवी चित्रलेखा जी के हॉस्पिटल मे जानवरों व गौ माता का इलाज और पालन पोशन होता है, वो तो सराहनीय है ही, इसके साथ साथ महिला सशक्तिकरण की तरफ भी देवी जी काम कर रहीं है। बहुत सी गाँव की महिलाओं को रोज़गार देकर, उनको आर्थिक रूप से स्वतंत्र करने मे देवी जी का बहुत बड़ा हाथ है। कई महिलाएं यहाँ जूट का सामान बनाना, गायों की सेवा और भी अलग अलग काम करती है। इससे ना केवल महिलाओं का स सशक्तिकरण हो रहा है, बल्कि भारत की रचनात्मक हस्त-शिल्प को भी बढ़ावा मिल रहा है। देवी जी ने सिर्फ राष्ट्रीय स्तर पर ही नही, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी कई कथाएं करके व पुरुष्कार जीतकर भारत का नाम रोशन किया है। देवी जी के इन सभी नेक कार्यों व भारत को आगे बढ़ाने की लगन से हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए।

गौ सेवा धाम में आयी फ्रांस की मीडिया टीम।

गौ सेवा धाम में आयी फ्रांस की मीडिया टीम।

गौ सेवा धाम में आयी फ्रांस की मीडिया टीम।
फ्रांस की मीडिया टीम ने किया गौसेवा धाम का भ्रमण।
 
भारत में गौ सेवा धाम की जीव सेवा अतुलनीय: फ्रांस मीडिया।
 
गौसेवा धाम हाँस्पीटल की सेवायें अब देश के बाहर भी प्रसिद्ध हो रहीं हैं। विगत सोमवार को गौसेवा धाम में फ्रांस से मीडिया की एक टीम आयी। मीडियाकर्मियों ने बताया कि वह फ्रांस से यहाँ भारत में सनातन धर्म में पूज्यमान गौमाता और जीव-जन्तुओं की निःस्वार्थ सेवा के बारे में सुनकर इसको कवर करने हेतू आये हैं जिससे इस  अच्छे नेक कार्य का विश्वभर में प्रचार प्रसार किया जा सके। फ्रांसी मिडिया ने गौसेवा धाम की टीम के साथ रहकर एम्बूलेंस, बाइक एम्बूलेंस तथा हाँस्पीटल में होने वाली चिकित्सा सेवा का गहनता से निरीक्षण किया। 
गौसेवा धाम की विशेषताऐंः
• लिफ्टयुक्त एम्बूलैंस
• अत्याधुनिक एक्सरे मशीन
• प्रशिक्षित चिकित्सक
• जीवों के रहने हेतू कूलर युक्त वार्ड
 
 मीडिया टीम ने देखा कि किसी जीव के सड़क दुर्घटना होने पर गौसेवा धाम की लिफ्टयुक्त एम्बूलैंस तुरतं ही घटना स्थल पर जाकर उस जीव को हाँस्पीटल में लाती है। जहाँ उसका उपचार चिकित्सकों के माध्यम से किया जाता है। साथ ही घायल जीवों को प्राथमिक उपचार देने हेतू गौ सेवा धाम हाँस्पीटल बाइक एम्बूलेंस संचालित करता है। जिसमें आवश्यक दवाईयाँ तथा पट्टियाँ सदैव रहती है। जीव-जन्तुओं के लिये होने वाली इस त्वरित सेवा से मीडियाकर्मी प्रभावित नजर आये।  गौसेवा धाम हाँस्पीटल में गौवंश के साथ-साथ नीलगाय, मोर, बंदर, बकरी, घोड़ा, बाज, बंदर आदि समस्त जीव-जन्तुओं का निःशुल्क उपचार किया जाता है। अपने मजबूत इन्फ्रास्ट्रक्चर से गौसेवा धाम इतने बड़े स्तर पर जीव सेवा करता है। क्षेत्रीय पशु पालकों के साथ-साथ अन्य राज्यो के पशु पालक भी अपने पशुओं का यहाँ उपचार कराने लाते हैं।
गौसेवा धाम ने बनाया लम्पीग्रस्त गायों हेतु आइसोलेशन सेटंर

गौसेवा धाम ने बनाया लम्पीग्रस्त गायों हेतु आइसोलेशन सेटंर

लम्पी ग्रस्त गायों के लिये पलवल का पहला आइसोलेशन सेटंर
गौसेवा धाम ने बनाया लम्पीग्रस्त गायों हेतु आइसोलेशन सेटंर

इन दिनों लम्पी महामारी अपने चरम पर है। देश के कई राज्यों में इस बीमारी ने गायों को अपनी चपेट में ले रखा है। इन लम्पीग्रस्त गायों को आश्रय देने के लिये होडल में गौ सेवा धाम हाँस्पीटल एवं नगर पालिका होडल के सहयोग से पलवल जिले का पहला आइसोलेशन सेटंर होडल में प्रारंभ किया गया। राष्ट्रीय राजमार्ग पर न्यू त्यागी मंदिर के पास इन महामारी ग्रस्त गायों को अलग से रखा गया है। यहाँ इन गौवंश के लिये पौष्टिक भोजन तथा दवाईयों का प्रबंध किया गया है। देवी चित्रलेखाजी के गौ सेवा धाम हॉस्पिटल के प्रशिक्षित चिकित्सकों की देखरेख में यहाँ कई बीमार गौंवश उपचाराधीन हैं।
   

लंपी वायरस के कुछ लक्षण 
यह वायरस गौवंश की लार, नाक के स्राव पाया जा सकता है. इसके अलावा, पशुओं की लसीका ग्रंथियों में सूजन आना, बुखार आना, अत्यधिक लार आना और आंख आना, वायरस के अन्य लक्षण हैं.
सबसे अधिक दिखने वाला लक्षण पूरे शरीर पर दाने या फोड़े जैसा निकल आते है । 
ऐसे किसी भी लक्षण के दिखने पर अपने नज़दीकी पशु चिकित्सक को जरूर दिखाएँ। 

बचाव के उपायः
बीमार गाय को स्वस्थ पशुओं से अलग रखें। 
पानी में फिटकरी, नीम की पत्ती तथा हल्दी डालकर गौवंश को नहलाये। 
चारे के साथ पौष्टिक आहार जैसे दलिया, चुनी आदि पर्याप्त मात्रा में दें। 
ध्यान रहे की ये समस्त उपाय अपने नज़दीकी पशु चिकित्सक की देख रेख में ही अपनाएं। 

 नगर पालिका के चेयरमैन शीशपाल कड्डन ने पशु पालकों से अपील करते हुये कहा कि बीमारी होने पर गायों को घर से नहीं निकालें अपितु उनका सही उपचार कराये। लम्पी महामारी के बारे में गौ सेवा धाम हॉस्पिटल के महामंत्री प्रत्यक्ष शर्मा ने कहा कि इस बीमारी से ग्रसित गाय का दूध अच्छे से उबालकर उपयोग में लिया जा सकता है। लम्पी बीमारी से मनुष्य को किसी प्रकार को कोई खतरा नहीं है। गौसेवा धाम हॉस्पिटल दुर्घटनाग्रस्त, बीमार एवं असहाय गौंवश तथा अन्य जीव-जन्तुओं का निःशुल्क उपचार करता है। लम्पी महामारी में गौ सेवा धाम पर अतिरिक्त बोझ है परन्तु अस्पताल प्रशासन तथा होडल नगर पालिका के संयुक्त प्रयास से इस बीमारी से गौंवश को बचाने का प्रयास किया जा रहा है। महामारी के इस दौर में असहाय तथा बेजुबान गौवंश की पीड़ा को दूर करने के इस प्रयास का क्षेत्र के लोगों ने स्वागत किया है।
आपको बतादें की गौ सेवा धाम हॉस्पिटल पिछले 9 वर्षों से असहाय व् दुर्घटनाग्रस्त गौवंश के साथ साथ अन्य सभी जीव जंतुओं का उपचार करता आया है। साथ ही इस लम्पी महामारी में भी गौ सेवा धाम हॉस्पिटल की चिकित्सक टीम उत्तर प्रदेश,हरियाणा व् राजस्थान की अनेक जगहों पर जाकर लम्पी से ग्रसित किसानों की पालतू व् बेसहारा गौवंश के उपचार हेतु 24 घंटे लगी हुई है। 

You should also have some support for cow service.

You should also have some support for cow service.

राधे राधे जी, 


गौ सेवा धाम हॉस्पिटल (पशु हॉस्पिटल) में आपका स्वागत है |
विश्व संकीर्तन टूर ट्रस्ट के तहत चल रहा जी.एस.डी. हॉस्पिटल (देवी चित्रलेखाजी संस्थापक हैं और उनके पिताजी पंडित टीकाराम स्वामी जी ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं) ... 
गौ सेवा धाम हॉस्पिटल में सभी प्रकार की चिकित्सा सुविधाएं निःशुल्क हैं।

गौ सेवा धाम हॉस्पिटल , NH-19 होडल, जिला पलवल (हरियाणा) - 121106
गौ सेवा धाम हॉस्पिटल में बीमार, लाचार व बेसहारा पीड़ित गौमाता एवं अन्य जीव जंतुओं का मुफ्त में इलाज किया जाता है। जिसमें आपश्री दान सहयोग कर पुण्य के भागीदार बन सकते हैं।
बीमार, लाचार व बेसहारा गौवंश की सेवा और उनके इलाज हेतु दान सहयोग करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या आप Paytm | Phonepe | Google pay ( बैंक अकाउंट ट्रांसफर ) के माध्यम से भी दान सहयोग कर सकते हैं।

इस सेवा कार्य में दान सहयोग कर पुण्य के भागीदार बनें।

गौ सेवा के लिए थोड़ा सहयोग आपका भी हो...

*Link for Website :-  https://www.worldsankirtan.org/home


*Link for Online Donation & Bank Accounts :-  https://www.worldsankirtan.org/donate


*Paytm || GooglePay - 9991772222

 

दान से सम्बंधित किसी अन्य जानकारी के लिए हमारे कार्यालय में संपर्क करें - +91 9991771111, +91 9991772222, +91 9991773333, +91 9991774444 

THE STORY OF THE HUNGRY THIRSTY UNCLAIMED COW MOTHER TILL THE LAST RITES.

THE STORY OF THE HUNGRY THIRSTY UNCLAIMED COW MOTHER TILL THE LAST RITES.

भूकी प्यासी, लावारिस गौ माता की अंतिम संस्कार तक की कहानी…

 

Cow mother is lying in the mud.

गौ सेवा धाम हॉस्पिटल में आई एक खबर की एक गौ माता कीचड़ में पड़ी हुई है , वहाँ के स्थानीय लोगों ने गौ सेवा धाम हॉस्पिटल में फोन किया गौ सेवा धाम की एम्बुलेंस घटना स्थल पर पहुंची।

Two bulls fighting each other.

हमें वहाँ जाकर पता चला की आपस में लड़ रहे दो बेलों ने इसकी ये हालत की है और पता चला की ये गौ माता एक दो दिन से यहाँ पड़ी हुई है और इतनी कमजोर थी की गौ माता कीचड़ से उठ ही नहीं पा रही थी, उसका एक सींग भी टूट गया था |

The team of Gau Seva Dham Hospital taking out the cow from the mud.

गौ सेवा धाम हॉस्पिटल की रेस्क्यू / डॉक्टर्स टीम ने तुरंत गौमाता को कीचड़ से बहार निकाला और गौ माता को वहाँ से लेकर गौ सेवा धाम हॉस्पिटल आई।

 

Gau Sewa Dham Hospital Ambulance.

गौ सेवा धाम हॉस्पिटल की डॉक्टर्स टीम ने गौ माता के घाव वाली जगह को अच्छे से साफ़ कर पटटी की और गौ माता को अच्छे से साफ़ कर उसे निलहाया गया। गौ माता खड़ी नहीं हो पा रही थी |

 

Doctors team of Gau Seva Dham Hospital treating Gau Mata / Cow

 

The doctors team of Gau Seva Dham Hospital lifting the cow mother with the help of machine.

इसीलिए उसे मशीन की सहायता से उठाया गया मगर अफसोस इसी बीच गौ माता ने अपना दम तोड़ दिया। गौ माता का अंतिम संस्कार किया गया और गौ माता के अच्छे व स्वस्थ जीवन के लिए प्रार्थना की।

Link for video - https://fb.watch/dbZzt620OJ/

Call for Ambulance – 8816088825

Call for more Details – 9991771111 , 9991772222

धूमधाम से मनाया गया परशुराम जन्मोत्सव तथा अक्षय तृतीया का पर्व, गौ सेवा धाम ने बीमार गायों हेतु किया विशाल छप्पन भोग का आयोजन

धूमधाम से मनाया गया परशुराम जन्मोत्सव तथा अक्षय तृतीया का पर्व, गौ सेवा धाम ने बीमार गायों हेतु किया विशाल छप्पन भोग का आयोजन

धूमधाम से मनाया गया परशुराम जन्मोत्सव तथा अक्षय तृतीया का पर्व, गौ सेवा धाम ने बीमार गायों हेतु किया विशाल छप्पन भोग का आयोजन

Celebrated Parshuram Janmotsav and Akshaya Tritiya festival with pomp, Gau Sewa Dham organized a huge Chappan Bhog for sick cows.

कोटवन करमन बार्डर पर स्थित गौ सेवा धाम हाँस्पीटल में चल रही सप्त दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा के द्वितीय दिवस पर अक्षय तृतीया का पर्व धूमधाम से मनाया गया। प्रातःकाल गौ पूजन तथा स्वस्तिवाचन कर कार्यक्रम का श्रीगणेश किया गया। अक्षय तृतीया पर्व वैशाख के महीने की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। इस दिन महर्षि जमदग्नि तथा माता रेणुका के यहाँ भगवान विष्णु के छठे अवतार भगवान परशुराम का प्राकट्य हुआ था। इस दिन किये गये सत्कर्म अक्षय पुण्य प्रदान करते हैं।

 

 

गौ सेवा धाम में इस पावन पर्व को बीमार, घायल तथा दुर्घटनाग्रस्त गौवशं की सेवा कर मनाया गया। संध्याकाल में इन असहाय गौवंश हेतू विशाल भडांरे का आयोजन किया गया। जिसमें गौमाताओं को हरा चारा, रोटी, मीठा दलिया, गुड़, विभिन्न प्रकार की दालें, सोयाबीन की बड़ी आदि छप्पन प्रकार के व्यंजन परोसे गये। स्थानीय भक्तों के साथ-साथ दूर-दराज के क्षेत्रों से आये श्रद्धालुओं ने इस अवसर पर अपने हाथों से गायों की सेवा कर पुण्य लाभ कमाया। विदित रहे कि गौ सेवा धाम दुर्घटनाग्रस्त गौवंश के साथ-साथ अन्य घायल जीव-जन्तुओं की सेवा करने हेतू प्रसिद्ध है। यहाँ विश्वस्तरीय चिकित्सा मशीन तथा प्रशिक्षित डाक्टरों की टीम गौ सेवा हेतू सदैव तत्पर रहती है।

 

Join your hand with us for a better life and beautiful future.