Top

Upcoming Events:

!! Shrimad Bhagwat Katha- Bayana Bharatpur Rajasthan:- 03-06-2023 To 09-06-2023, Time:- 2:00 pm To 5:30 pm, Place: - Village-Nagla Roopram, kanawar Bayana, Bharatpur Rajasthan !!

गौ सेवा धाम में आयी फ्रांस की मीडिया टीम।

गौ सेवा धाम में आयी फ्रांस की मीडिया टीम।

गौ सेवा धाम में आयी फ्रांस की मीडिया टीम।
फ्रांस की मीडिया टीम ने किया गौसेवा धाम का भ्रमण।
 
भारत में गौ सेवा धाम की जीव सेवा अतुलनीय: फ्रांस मीडिया।
 
गौसेवा धाम हाँस्पीटल की सेवायें अब देश के बाहर भी प्रसिद्ध हो रहीं हैं। विगत सोमवार को गौसेवा धाम में फ्रांस से मीडिया की एक टीम आयी। मीडियाकर्मियों ने बताया कि वह फ्रांस से यहाँ भारत में सनातन धर्म में पूज्यमान गौमाता और जीव-जन्तुओं की निःस्वार्थ सेवा के बारे में सुनकर इसको कवर करने हेतू आये हैं जिससे इस  अच्छे नेक कार्य का विश्वभर में प्रचार प्रसार किया जा सके। फ्रांसी मिडिया ने गौसेवा धाम की टीम के साथ रहकर एम्बूलेंस, बाइक एम्बूलेंस तथा हाँस्पीटल में होने वाली चिकित्सा सेवा का गहनता से निरीक्षण किया। 
गौसेवा धाम की विशेषताऐंः
• लिफ्टयुक्त एम्बूलैंस
• अत्याधुनिक एक्सरे मशीन
• प्रशिक्षित चिकित्सक
• जीवों के रहने हेतू कूलर युक्त वार्ड
 
 मीडिया टीम ने देखा कि किसी जीव के सड़क दुर्घटना होने पर गौसेवा धाम की लिफ्टयुक्त एम्बूलैंस तुरतं ही घटना स्थल पर जाकर उस जीव को हाँस्पीटल में लाती है। जहाँ उसका उपचार चिकित्सकों के माध्यम से किया जाता है। साथ ही घायल जीवों को प्राथमिक उपचार देने हेतू गौ सेवा धाम हाँस्पीटल बाइक एम्बूलेंस संचालित करता है। जिसमें आवश्यक दवाईयाँ तथा पट्टियाँ सदैव रहती है। जीव-जन्तुओं के लिये होने वाली इस त्वरित सेवा से मीडियाकर्मी प्रभावित नजर आये।  गौसेवा धाम हाँस्पीटल में गौवंश के साथ-साथ नीलगाय, मोर, बंदर, बकरी, घोड़ा, बाज, बंदर आदि समस्त जीव-जन्तुओं का निःशुल्क उपचार किया जाता है। अपने मजबूत इन्फ्रास्ट्रक्चर से गौसेवा धाम इतने बड़े स्तर पर जीव सेवा करता है। क्षेत्रीय पशु पालकों के साथ-साथ अन्य राज्यो के पशु पालक भी अपने पशुओं का यहाँ उपचार कराने लाते हैं।

Related Blogs

You should also have some support for cow service.

You should also have some support for cow service.

राधे राधे जी, 


गौ सेवा धाम हॉस्पिटल (पशु हॉस्पिटल) में आपका स्वागत है |
विश्व संकीर्तन टूर ट्रस्ट के तहत चल रहा जी.एस.डी. हॉस्पिटल (देवी चित्रलेखाजी संस्थापक हैं और उनके पिताजी पंडित टीकाराम स्वामी जी ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं) ... 
गौ सेवा धाम हॉस्पिटल में सभी प्रकार की चिकित्सा सुविधाएं निःशुल्क हैं।

गौ सेवा धाम हॉस्पिटल , NH-19 होडल, जिला पलवल (हरियाणा) - 121106
गौ सेवा धाम हॉस्पिटल में बीमार, लाचार व बेसहारा पीड़ित गौमाता एवं अन्य जीव जंतुओं का मुफ्त में इलाज किया जाता है। जिसमें आपश्री दान सहयोग कर पुण्य के भागीदार बन सकते हैं।
बीमार, लाचार व बेसहारा गौवंश की सेवा और उनके इलाज हेतु दान सहयोग करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या आप Paytm | Phonepe | Google pay ( बैंक अकाउंट ट्रांसफर ) के माध्यम से भी दान सहयोग कर सकते हैं।

इस सेवा कार्य में दान सहयोग कर पुण्य के भागीदार बनें।

*Link for Website :-  https://www.worldsankirtan.org/home


*Link for Online Donation & Bank Accounts :-  https://www.worldsankirtan.org/donate


*Paytm || GooglePay - 9991772222

2014 से 2023 तक गौ सेवा धाम का सफर।

2014 से 2023 तक गौ सेवा धाम का सफर।

देवी चित्रलेखा जी ने 2014  में गौसेवा धाम हॉस्पिटल कि शुरुआत की थी। यह हॉस्पिटल हरियाणा के पलवल जिले में (ब्रज वृन्दावन के समीप ) स्थित है। गौसेवा धाम हॉस्पिटल में बीमार गौवंश और सभी पशु पक्षियों का निशुल्क इलाज किया जाता है। यह हॉस्पिटल दान,दक्षणा पर निर्भर है। इस हॉस्पिटल में लगभग 300 - 400 गौवंश उपचार हेतु भर्ती हैं।

आज (फरवरी 2023) 20000 से अधिक गौवंशो का यहाँ लाकर उनका इलाज हो चुका हैं, और 5000 से ज्यादा गौवंश को अन्य जगहों पर जाकर इलाज किया है।  गौसेवा धाम हॉस्पिटल में गौवंशो के लिए बहुत सारी सुविधाएं है। इस परिसर में गौ माता के ट्रीटमेंट के लिए 15 -20 वेटेनरी डॉक्टर्स की एक टीम है। जो किसी भी केस के लिए हमेशा तैयार रहती हैं साथ ही 20-30 गौ सेवक है जो यहां पर गौमाता की सेवा और चारा पानी की व्यवस्था सँभालते हैं। इस परिसर में मेडिकल स्टोर की सुविधा है जिसमे गौवंशो की हर बीमारी की दवाई उपलब्ध है। चाहे कोई छोटी चोट हो या बड़ा ऑपरेशन।

इस परिसर में गौवंशो के चारे की पूर्ति करने के लिए आधुनिक चारा कटर मशीन भी है। गौ माता की रसोई घर में रोटी बनाने के लिए आटोमेटिक रोटी मेकर मशीन है जो एक घंटे में 1000  रोटी बनाती है। यहाँ पर गायों के साथ-साथ और भी जानवरो का इलाज किया जाता है जैसे की कुत्ते,बन्दर,हिरन,मोर,कबूतर, बिल्ली आदि। यह हॉस्पिटल दान पर निर्भर है इसीलिए एक और आय के साधन के लिए एक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट शुरू की है जिसका नाम खंबानी प्राइवेट लिमिटेड है। इसमें हर्बल पदार्थ का इस्तेमाल करके प्रोडक्ट बनाये जाते है। जैसे कि बालो के लिए तेल,जोड़ो के दर्द का तेल,गोबर से बनी धूपबत्ती,हिंगगोली, हिंगपैडा,साबुन,आचार और भी बहुत प्रकार के उत्पाद बनाये जाते है। इस परिसर में गौवंशो के लिए अलग अलग वार्ड बने हुए है जैसे की आई सी यु वार्ड, कैंसर वार्ड, दृष्टिहीन वार्ड ,तीन पैर गोवंश वार्ड, गौ पालन वार्ड। गौवंशो के लिए ऑपरेशन थ्रेटर भी है और एक अत्याधुनिक लैब भी है जहॉ पर आजतक डॉक्टर्स ने जितने भी कैंसर ऑपरेशन किये है उन्हें यहाँ स्टोर कर रखा हैं।

 

जिन गौवंशो को खड़े होने में परेशानी आती हैं उनको एक्सरसाइज कराने के लिए फोर्क लिफ्टर मशीन हैं। गौ सेवा धाम में केचुआ खाद बनाने  का प्लांट हैं जिसमे वर्मीकम्पोस्ट केचुआ खाद बनता हैं। क्योकि हम सब जानते आजकल जो यूरिया से बनी खाद का हम इस्तेमाल करते है वह हमारी सेहत के लिए हानिकारक है। 

इसलिए हमे केचुआ खाद का इस्तेमाल करना चाहिए। इस परिसर में एक कथा हॉल है जहॉ पर देवी चित्रलेखा जी कथा वाचन करती है।

यहाँ कथा करवाने वाले व्यक्तियो के ठहरने के लिए उत्तम व्यवस्था है। यहाँ आकर लोग अपने जन्मदिन गौमाता के साथ मनाते है। जो सेवार्थी  यहाँ आते है उनके लिए चाय,लस्सी  की सेवा निःशुल्क है।

 

देवी चित्रलेखाजी के जन्मदिन (संकीर्तन दिवस) पर किया गया रक्तदान शिविर का आयोजन

देवी चित्रलेखाजी के जन्मदिन (संकीर्तन दिवस) पर किया गया रक्तदान शिविर का आयोजन

देवी चित्रलेखाजी के जन्मदिन (संकीर्तन दिवस) पर किया गया रक्तदान शिविर का आयोजन
 
विभिन्न प्रकार के सेवाकार्य कर मनाया गया देवी चित्रलेखाजी का जन्मदिवस
 
देवी चित्रलेखाजी के सेवाप्रकल्पः
 असहाय गौवंश तथा अन्य जीवों की सेवा
 हरिनाम प्रचार 
 महिला स्वावलबंन तथा सशक्तिकरण
 आयुर्वेदिक उत्पादों को प्रोत्साहन देना
गुरुवार को गौ सेवा धाम में चल रही सप्तदिवस श्री राधा चरितामृत कथा के चतुर्थ दिवस में गौ सेवा धाम हाँस्पीटल की संचालिका तथा प्रसिद्ध कथावाचिका पूज्या देवी चित्रलेखाजी के जन्मदिवस 19 जनवरी को संकीर्तन दिवस के रूप में मनाया गया। प्रातःकाल प्रभात संकीर्तन फेरी के साथ कार्यक्रम का शुभांरभ किया गया। तत्पश्चात् वृक्षारोपण कर प्रकृति के सरंक्षण का संदेश दिया गया। मघ्याहन समय में गायों हेतू 56 भोग का भंडारा प्रसाद लगाया गया। जिसमें समस्त गौंवश को पौष्टिक दलिया, हरा चारा, गुड़, गन्ना, दालें तथा फल प्रदान किये गये। इस शुभ अवसर पर गौसेवा धाम हाँस्पीटल ने विधार्थीयों को गर्म वस्त्रों का वितरण भी किया तथा साथ ही गौ सेवा धाम परिसर में रक्तदान शिविर का भी आयोजन किया गया। जीव सेवा , नर सेवा तथा पर्यावरण के संरक्षण का संदेश देकर गौ सेवा धाम हाँस्पीटल ने देवीजी के जन्मदिवस को सार्थकता के साथ मनाया। देवीजी ने इस अवसर पर एक नई गौ एम्बुलेंस का उद्घाटन किया। इन लिफ्टयुक्त एम्बुलेंस के माध्यम से पहले से घायल जीव को और अधिक कष्ट न देते हुये सुविधापूर्वक हाँस्पीटल तक ले जाना आसान रहता है। गौसेवा धाम हाँस्पीटल यूपी हरियाणा राज्य की सीमा पर स्थित है। यह हाँस्पीटल विशाल स्तर पर निःशुल्क की जाने वाली गौसेवा हेतू प्रसिद्ध है। देवीजी के पिता पं0 टीकाराम स्वामीजी ने इस अवसर पर गौसेवा धाम के बारे में बताया कि यहाँ दुर्घटनाग्रस्त , लाचार तथा असहाय गौवंश तथा अन्य जीव जन्तुओं का उपचार किया जाता है। साथ ही क्षेत्र के पशुपालक भी अपने पशुओं के उपचार हेतू यहाँ आते हैं। वर्तमान में यहाँ हजारों जीव चिकित्सा लाभ ले चुके हैं। गौमाता के अतिरिक्त वानर, खरगोश, श्वान, मोर, नीलगाय, कबूतर आदि कई पशु-पक्षी इस हाँस्पीटल में उपचाराधीन है। गौसेवा धाम हाँस्पीटल में प्रशिक्षित चिकित्सक, अत्याधुनिक मशीनें, बिजली, पानी तथा जीवों के अलग-अलग रहने हेतू विशाल वार्ड आदि हैं। जिससे इतने बड़े स्तर पर जीव सेवा की जा रही है।
नए साल पर किया गौ पूजन गौवंश को 56 भोग लगाकर करी नववर्ष की शुरुआत |

नए साल पर किया गौ पूजन गौवंश को 56 भोग लगाकर करी नववर्ष की शुरुआत |

नए साल पर किया गौ पूजन
गौवंश को 56 भोग लगाकर करी नववर्ष की शुरुआत
नववर्ष कि शुरुआत गौ सेवा और कृष्ण भजनों के साथ

हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी कोटवन  बॉर्डर पर स्थित देवी चित्रलेखाजी के गौ सेवा धाम हॉस्पिटल में अंग्रेजी नववर्ष का त्यौहार बड़े ही धूमधाम से मनाया गया।
आज सुबह कड़ाके की ठण्ड और घने कोहरे के बीच गौ सेवा धाम परिवार के सदस्यों ने दिल्ली, फ़रीदाबाद, नॉएडा आदि, आस पास के क्षेत्रों से आये भक्तों के साथ मिलकर सर्वप्रथम प्रातः काल गौ माता के परिसर में महासंकीर्तन करते हुए परिक्रमा की।
तत्पश्तात सैकड़ों भक्तों ने मिलकर हवन पूजन में सम्मलित हो सभी ने गौ माता की पूजन व आरती कर गौ माता का आशीर्वाद लेकर अपने नववर्ष की शुरुआत की।
इस मौके पर आये सभी सदस्यों ने साथ मिलकर गौ वंश को 56 भोग भी खिलाया, 56 भोग में मीठा दलिया, ताजा गन्ना, रोटी, फल, हरी सब्जियां जैसे अनेकों स्वादिष्ट व्यंजन खिलाये गए,
इस मौके भजन गायकों की टीम ने अपने मधुर भजनों पर सभी आये हुए भक्तों को नाचने झूमने पर मज़बूर कर दिया, क्या बड़े और क्या बच्चे सभी कृष्ण भजनों पर थिरकते नज़र आये साथ ही राधा और कृष्ण जी की झांकी स्वरूप ने सभी का मन मोह लिया। 
दोपहर में सभी भक्तों को खीर पूरी का भोजन प्रसाद कराया। नववर्ष का यह संपूर्ण कार्यक्रम संस्था के अध्यक्ष पं- टीकाराम स्वामीजी और महासचिव प्रत्यक्ष की देख रेख में समपन्न हुआ। 

दिल्ली से पधारे मनोज गर्ग और उनके साथियों ने बताया कि वह शिमला, मसूरी, नैनीताल ना जाकर अपने नए साल की शुरुआत गौ माताओं की सेवा कर करना चाहते थे। आज गौ सेवा धाम में आकर उनका सपना साकार हुआ।  यहाँ हो रही गौवंश की सेवाओं को देख सभी साथीगण काफी हर्षित हुए,
मनोज ने बताया की इस तरह की बेजुबान जीवों की सेवा उन्होंने अपने जीवन काल में कहीं नहीं देखी है। 
उन्होंने सेवा कार्य के लिए देवी चित्रलेखाजी और उनके समस्त गौ सेवा धाम परिवारजनों का सुक्रिया अदा किया।

गौ सेवा धाम में महिला सशक्तिकरण को दिया जा रहा है बढ़ावा।

गौ सेवा धाम में महिला सशक्तिकरण को दिया जा रहा है बढ़ावा।

गौ सेवा धाम में महिला सशक्तिकरण को दिया जा रहा है बढ़ावा।

महिलाओं का आत्मनिर्भर होना जरूरी ~ देवी चित्रलेखाजी।

भारतीय नारी ने विदेश में बढ़ाई भारत को शान।

देवी चित्रलेखा जी द्वारा संचालित  गौ सेवा धाम हॉस्पिटल एक बेहतर भारत की तरफ एक बड़ा कदम साबित हुआ है। देवी चित्रलेखा जी के हॉस्पिटल मे जानवरों व गौ माता का इलाज और पालन पोशन होता है, वो तो सराहनीय है ही, इसके साथ साथ महिला सशक्तिकरण की तरफ भी देवी जी काम कर रहीं है। बहुत सी गाँव की महिलाओं को रोज़गार देकर, उनको आर्थिक रूप से स्वतंत्र करने मे देवी जी का बहुत बड़ा हाथ है। कई महिलाएं यहाँ जूट का सामान बनाना, गायों की सेवा और भी अलग अलग काम करती है। इससे ना केवल महिलाओं का स सशक्तिकरण हो रहा है, बल्कि भारत की रचनात्मक हस्त-शिल्प को भी बढ़ावा मिल रहा है। देवी जी ने सिर्फ राष्ट्रीय स्तर पर ही नही, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी कई कथाएं करके व पुरुष्कार जीतकर भारत का नाम रोशन किया है। देवी जी के इन सभी नेक कार्यों व भारत को आगे बढ़ाने की लगन से हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए।

गौ सेवा धाम में आयी फ्रांस की मीडिया टीम।

गौ सेवा धाम में आयी फ्रांस की मीडिया टीम।

गौ सेवा धाम में आयी फ्रांस की मीडिया टीम।
फ्रांस की मीडिया टीम ने किया गौसेवा धाम का भ्रमण।
 
भारत में गौ सेवा धाम की जीव सेवा अतुलनीय: फ्रांस मीडिया।
 
गौसेवा धाम हाँस्पीटल की सेवायें अब देश के बाहर भी प्रसिद्ध हो रहीं हैं। विगत सोमवार को गौसेवा धाम में फ्रांस से मीडिया की एक टीम आयी। मीडियाकर्मियों ने बताया कि वह फ्रांस से यहाँ भारत में सनातन धर्म में पूज्यमान गौमाता और जीव-जन्तुओं की निःस्वार्थ सेवा के बारे में सुनकर इसको कवर करने हेतू आये हैं जिससे इस  अच्छे नेक कार्य का विश्वभर में प्रचार प्रसार किया जा सके। फ्रांसी मिडिया ने गौसेवा धाम की टीम के साथ रहकर एम्बूलेंस, बाइक एम्बूलेंस तथा हाँस्पीटल में होने वाली चिकित्सा सेवा का गहनता से निरीक्षण किया। 
गौसेवा धाम की विशेषताऐंः
• लिफ्टयुक्त एम्बूलैंस
• अत्याधुनिक एक्सरे मशीन
• प्रशिक्षित चिकित्सक
• जीवों के रहने हेतू कूलर युक्त वार्ड
 
 मीडिया टीम ने देखा कि किसी जीव के सड़क दुर्घटना होने पर गौसेवा धाम की लिफ्टयुक्त एम्बूलैंस तुरतं ही घटना स्थल पर जाकर उस जीव को हाँस्पीटल में लाती है। जहाँ उसका उपचार चिकित्सकों के माध्यम से किया जाता है। साथ ही घायल जीवों को प्राथमिक उपचार देने हेतू गौ सेवा धाम हाँस्पीटल बाइक एम्बूलेंस संचालित करता है। जिसमें आवश्यक दवाईयाँ तथा पट्टियाँ सदैव रहती है। जीव-जन्तुओं के लिये होने वाली इस त्वरित सेवा से मीडियाकर्मी प्रभावित नजर आये।  गौसेवा धाम हाँस्पीटल में गौवंश के साथ-साथ नीलगाय, मोर, बंदर, बकरी, घोड़ा, बाज, बंदर आदि समस्त जीव-जन्तुओं का निःशुल्क उपचार किया जाता है। अपने मजबूत इन्फ्रास्ट्रक्चर से गौसेवा धाम इतने बड़े स्तर पर जीव सेवा करता है। क्षेत्रीय पशु पालकों के साथ-साथ अन्य राज्यो के पशु पालक भी अपने पशुओं का यहाँ उपचार कराने लाते हैं।

Join your hand with us for a better life and beautiful future.