Top

Upcoming Events:

!! Gopashtami Bhagwat Mahotsav:- 17-11-2020 To 23-11-2020, Time:- 4:00 pm To 7:30 pm, Place: - Gau Seva Dham Hospital, Hodal,Palwal(HR) !!

Mail :
devichitralekha@yahoo.com
Call Us :
+91-9991771111
DONATE NOW

चित्रलेखा जी के हाँस्पीटल में विपुल गोयल ने मनाया गोपाष्टमी का पर्व

गौ पूजन व गौभंडारा कर मनाया गया गोपाष्टमी का पर्व चित्रलेखा जी के हाँस्पीटल में विपुल गोयल जी ने मनाया गोपाष्टमी का पर्व गोपाष्टमी पर हुआ गायों का पूजन देशी-विदेशी भक्तों सगं मनाया गया गोपाष्टमी का पर्व   करमन बार्डर स्थित देवी चित्रलेखा जी के गौसेवा धाम हाँस्पीटल में विगत शुक्रवार को गोपाष्टमी का पर्व वड़ी धूमधाम से मनाया गया।  आस-पास के साथ दूर-दराज तथा विदेश तक से आये श्रद्धालुओं ने प्रातःकाल हवन, कीर्तन के बाद समूचे गौसेवा धाम की परिक्रमा के साथ कार्यक्रम का श्रीगणेश किया।  तत्पश्चात मुख्य अतिथि के रूप में हरियाणा सरकार के उघोग एवं पर्यावरण मंत्री श्री विपुल गोयल ने गायों को गुड़ खिलाकर गोपाष्टमी पर आयोजित गोष्ठी की शुरूआत की। उन्होनें बताया कि भगवान कृष्ण ने 5 साल 2 माह की उम्र में गायों को सर्वप्रथम चराना प्रारंभ किया था तभी से गोपाष्टमी का पर्व मनाया जाने लगा। साथ ही श्री गोयल ने प्रदेश सरकार की उपलब्धि बताते हुये कहा कि सरकार ने गौवंश की सेवा हेतू गौसेवा आयोग के नाम से एक विभाग की स्थापना की है जो कि गौवंश के संवर्धन पर कार्य करता है। गौसेवा धाम हाँस्पीटल में की जा रही असहाय गौंवश की सेवा से प्रभावित होकर उन्होनें 11 लाख रूपये का सहयोग भी देने का आश्वासन दिया व आगामी समय में एक बड़ी अल्ट्रसाउंड मशीन हरियाणा सरकार से दिलावाने का भी आश्वासन दिया। गौ सेवा धाम संचालिका देवी चित्रलेखाजी ने गोपाष्टमी को महत्व को समझते हुए बताया की कार्त‍िक मास के शुक्‍ल पक्ष की अष्‍टमी को गोपाष्‍टमी के रूप में मनाया जाता है. इस दिन भगवान श्रीकृष्ण ने गौ चारण लीला शुरू की थी. गाय को गोमाता भी कहा जाता है. क्‍योंकि गाय को मां का दर्जा दिया गया है. ऐसी मान्‍यता है क‍ि इसी द‍िन बाल कृष्‍णा और बलराम ने गाय चराना शुरू क‍िया था. एक दूसरी कहानी जो प्रचल‍ित है, उसके अनुसार ऐसा कहा जाता है क‍ि बाल कृष्‍ण ने माता यशोदा से इस द‍िन गाय चराने की ज‍िद की थी और यशोदा मइया ने कृष्‍ण के प‍िता से इसकी अनुमत‍ि मांगी थी. नंद महाराज से अनुमत‍ि दे दी और एक ब्राह्मण से म‍िले. ब्राह्मण ने कहा क‍ि गाय चराने की शुरुआत करने के ल‍िए यह द‍िन अच्‍छा और शुभ है. इसल‍िए अष्‍टमी पर कृष्‍ण ग्‍वाला बन गए और उन्‍हें गोव‍िन्‍दा के नाम से लोग पुकारने लगे   समस्त आयोजन में आसपास की समस्त गौशालों के प्रधाऩ व समस्त चैबीसी की सरदारी पंच तथा सरपंच, देश व विदेश से आये गौभक्त मुख्य रूप से उपस्थित रहे। कार्यक्रम के अंत में उपस्थित हजारों की संख्या में आये हुये भक्तों के लिये भंडारा प्रसाद वितरित किया गया साथ में ही 10 से ज्यादा गौशालाओं की 10 हजार से अधिक गायों के लिये गौ महाभोज हेतू हरा चारा, खीर, मीठा दलिया, हरी सब्जियाँ, गुड़, हजारों ताजी रोटियाँ आदि गौसेवा धाम में तैयार कर गौशालाओं को भिजावाई गयी।  

Related Blogs

सप्तदिवसीय गोपाष्टमी भागवत महोत्सव का हुआ शुभारंभ

गौसेवा धाम में धूमधाम से मनायी जायेगी गोपाष्टमी
 
सप्तदिवसीय गोपाष्टमी भागवत महोत्सव का हुआ शुभारंभ
 
 
प्रसिद्ध कथावाचक देवी चित्रलेखा जी के सानिध्य में कोटवन - करमन बॉर्डर पर स्थित गौसेवा धाम हाँस्पीटल में बीमार गौवंश के सेवार्थ सप्तदिवसीय गोपाष्टमी भागवत महोत्सव का विगत मगंलवार से श्रीगणेश हुआ। 
महोत्सव के प्रथम दिवस में देवी जी ने भागवत कथा के महात्मय का वर्णन किया। अस्पताल के मीडिया प्रभारी राहुल तिवारी ने जानकारी देते  हुए  बताया कि 17 से 23 नवंबर तक चलने वाले इस कथा महोत्सव के मध्य में ही 22 नवंबर को गोपाष्टमी का महापर्व बड़े ही धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया जायेगा। गोपाष्टमी के दिन ही प्रथम बार भगवान श्री कृष्ण ने गौ चारण आरंभ किया था। 
जैसे राधाष्टमी पर बरसाना के मंदिरों में भव्य उत्सव मनाया जाता है ठीक वैसा ही गोपाष्टमी का पावन पर्व  गौ सेवा धाम हाँस्पीटल में भी धूम धाम से मनाया जाता है। क्योंकि गौसेवा धाम हाँस्पीटल में  बीमार व असहाय गौवंश को आश्रय देकर उनका उपचार व उचित देखभाल की जाती है तथा यह हाँस्पीटल गौ माता की सेवा के लिये पूर्णतः समर्पित है। 
हर वर्ष की भांति इस बार भी गोपाष्टमी के पर्व पर होने वाले गाै महाभोज में विशेष रूप से गौ माता की आरती तथा यहां भर्ती बीमार गौवशं के लिये मीठा दलिया, हरा चारा, गुड़ आदि का भंडारा अयोजित किया जायेगा। सम्पूर्ण कथा में कोरोना प्रोटोकोल का विशेष रूप से ध्यान रखा गया। सीमित मात्रा में श्रद्धालु उचित शारीरिक दूरी के साथ मास्क पहने हुये नजर आये।
 
ज्ञात रहे कि गौसेवा धाम हाँस्पीटल क्षेत्र में गौसेवा में अग्रणी भूमिका निभाता रहा है। यहाँ पर लाचार, अनाथ, असहाय तथा दुर्घटनाग्रस्त गौवंश के साथ अन्य जीव जंतु व पशु पक्षियों का का निःशुल्क उपचार किया जाता है। 

कोरोना काल में झूम उठे कथा श्रोता

भगवत सिखाती है जीने की कला - देवी चित्रलेखाजी 
कोरोना काल में झूम उठे कथा श्रोता 
 
अधिक मास में बही भागवत कथा की बयार
 
कोटवन करमन बार्डर पर स्थित गौसेवा धाम हाँस्पीटल में सप्तदिवसीय भागवत कथा का आयोजन विगत शनिवार से प्रारम्भ हुआ। 
जैसा की सबको विदित है मार्च महीने से ही कोरोना के वजह से सर्कार द्वारा सभी प्रकार के आयोजनों पररोक लगाई थी, लेकिन अब केंद्र सरकार ने धार्मिक आयोजनों को कुछ शर्तो के साथ मंजूरी दे दी है और निम्न शर्तों के देखते हुए कथा पंडाल में सीमित संख्या में ही श्रद्धालुगण कथा में उपस्थित रहे। 
कथा व्यास देवी चित्रलेखा जी ने बताया कि प्रथम बार कृष्णलीला  कथा गोवर्धन के कुसुम सरोवर पर उद्धव जी ने कृष्ण की पटरानियों को सुनायी। 
 साथ ही उन्होनें कहा कि अधिक मास में दान-पुण्य, जप-तप का प्रभाव कई गुना बढ़ जाता है। कथा के मध्य में श्री किशोरीजू के भजनों पर समस्त भगवत प्रेमी झूमते नजर आये। इस दौरान कथा में आये श्रद्धालुओं ने गौमाताओं को हरा चारा, गुड़ आदि खिलाकर पुण्य लाभ भी कमाया। समस्त आयोजन में कोरोना के प्रोटोकोल का पूर्णतः पालन किया गया। मास्क, उचित दूरी, स्वच्छता आदि का पूरी तरह से ध्यान रखा गया।
कथा के अंत में भक्तो को  प्रसाद भी वितरण किया गया

गौ सेवा धाम हॉस्पिटल जैसी जीव सेवा कहीं और नहीं - मूलचंद शर्मा

पलवल। हरियाणा के कैबिनेट मंत्री श्री मूलचन्द शर्मा ने कोटवन कर्मन बॉर्डर पर स्थित देवी चित्रलेखा जी के सानिध्य में संचालित गौ सेवा धाम होडल का दौरा किया,
इस मौके पर गौसेवा धाम में बेसहारा पशुओं के इलाज से सम्बंधित जानकारी ली। 
कैबिनेट मंत्री श्री मूलचन्द शर्मा ने कहा की गौ सेवा से बड़ा पुण्य कार्य और कोई नही है, 
इसलिए गौ माता की सेवा को अपने जीवन मे अपनाना चाहिए।
 गौ सेवा धाम होडल में चल रहे पशु अस्पताल में बेसहारा पशुओं की जिस तरीके से इलाज किया जा रहा है वो बहुत ही सराहनीय कार्य है। मूलचंद शर्मा जी ने यहां भर्ती बीमार गोवंश को अपने हाथों से रोटी खिलाई साथ ही पशुओं के लिए बने ऑपरेशन थिएटर आधुनिक लैब व अन्य सुविधाओं को देखकर काफी खुश हुए,
गौ सेवा धाम अस्पताल की संचालिका  देवी चित्रलेखा जी को गौ सेवा के लिए कैबिनेट मंत्री मूलचन्द शर्मा ने बधाई देते हुए कहा कि देवी चित्रलेखा जी और उनके परिवार द्वारा बीमार गोवंश व अन्य पशु पक्षियों हेतु संचालित पशु अस्पताल की प्रशंसा सिर्फ भारत ही नहीं अपितु विदेशों में भी सुनने को मिलती है, देवी चित्रलेखा जी द्वारा संचालित गौ सेवा धाम हॉस्पिटल ने अपने क्षेत्र का नाम रोशन किया है,
 कैबिनेट मंत्री ने कहा कि यह वही बृजभूमि है जिसमे भगवान श्री कृष्णा ने भी गौमाता की सेवा की थी । कैबिनेट मंत्री ने गौ सेवा धाम में बेसहारा पशुओं के लिए दी गई सुविधाओं का भी जायजा लिया । देवी चित्रलेखा और उनके पिताजी  पंडित टीकाराम स्वामी जी ने मंत्री का गो और गोविंद वाली स्मृति चिन्ह देकर स्वागत किया।

बृज की गौ माताओं की रज से होगा श्री राम मंदिर का भूमि पूजन

अयोध्या में 5 अगस्त को भव्य श्री राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए कोटवन कर्मन बॉर्डर पर स्थित देवी चित्रलेखा जी के सानिध्य में संचालित गौ सेवा धाम हॉस्पिटल से गौ माताओं के चरणो  की रज को विश्व हिंदू परिषद की मदद से राम मंदिर भूमि पूजन में लगाया जाएगा,
देवी चित्रलेखा जी ने राम मंदिर निर्माण की अग्रिम शुभकामनाएं देते हुए कहा कि प्रभु श्रीराम में आस्था रखने वाले करोड़ों लोगों का 500 वर्ष से ज्यादा का इंतजार खत्म हुआ और आने वाली 5 अगस्त को देश में दीपावली जैसा भव्य वातावरण रहेगा.
देवी चित्रलेखा जी ने बताया कि सभी सनातन प्रेमी अपने घरों में रहकर ही इस दिन को हर्षोल्लास से मनाएं 
और घर पर दीप जलाकर भगवान श्री राम मंदिर के भूमि पूजन की खुशियां बांटे,
देवी जी ने बताया कि पांच अगस्त को भूमि पूजन के साथ बहु प्रतीक्षित मंदिर निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा. 
 
जहां एक तरफ भारत के अलग-अलग हिस्सों से पवित्र मिट्टी राम जन्म भूमि को पहुंचाई जा रही है वहीं देवी चित्रलेखा जी ने बीमार गोवंश के लिए संचालित गौ सेवा धाम हॉस्पिटल में रह रही गोवंश के पैरों की मिट्टी को भी विश्व हिंदू परिषद की मदद से राम जन्मभूमि को पहुंचाया जाएगा जिस पवित्र मिट्टी का उपयोग श्री राम मंदिर के भूमि पूजन में होगा
 
मौके पर मौजूद ट्रस्ट के अध्यक्ष पं•  टीकाराम स्वामी जी ने भी सभी राम भक्तों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि कोरोना महामारी में  प्रशासन के नियमों का पालन करते हुए सभी घरों में रहकर ही 5 अगस्त को श्री राम मंदिर भूमि पूजन को हर्षोल्लास से मनाएं सभी घरों में मिठाइयां बांटे व घरों में रहकर ही पूजा अर्चना कर कीर्तन करें
 
इस मौके पर विश्व हिंदू परिषद के प्रखंड अध्यक्ष डॉ मनोज बघेल, 
संस्था के मीडिया कोऑर्डिनेटर राहुल तिवारी, पुष्पा तिवारी विनोद शर्मा विष्णु, डॉक्टर पवन, डॉक्टर सत्येंद्र,अनिल, इंद्रेश 
व अन्य लोग उपस्थित रहे
उपस्थित सभी भक्तों ने श्री राम और गौ माता के जयकारे भी लगाए
 
 
 
Attachments area
 
 
 

तस्करो से बचाये 1 ट्रक में फंसे 2 दर्जन से अधिक गौवंश, दो मृत मिले

प्रातः पुलिस को कोसी कलां (Mathura) के समीप एक अज्ञात ट्रक के खड़े होने की सूचना मिली। जब पुलिस ने उस ट्रक के अंदर देखा तो उसमें 26 गाय ठूंस ठूंसकर कर भरी हुई थी। जिसमें से दो गाय मर गई थी। पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए तुरंत उस ट्रक को कोसी हरियाणा बॉर्डर पर स्थित देवी चित्रलेखा जी द्वारा संचालित गौ सेवा धाम हॉस्पिटल पहुंचाया। बताया जाता है की इस गौवंश को कतल खाने ले जाया जा रहा था जिनको वक्त रहते कासाईयो के चंगुल से छुडाकर बन्दी बने गौ वंश को आजाद कराया ट्रक मैं बुरी तरह भारी होने के कारन एक दर्जन गायो की हालत अत्यधिक खराब मिली । घायल गौवंश का गौ सेवा धाम मै उपस्थित चिकित्सकों ने गाय को देखा तो दो गाय मृत पायी गयी तथा बाकी कई बेहोशी की हालत में मिली। जिनका उपचार तुरन्त शुरू कर दिया है ट्रक में गायों की सूचना मिलते ही हिंदूवादी संगठन के लोग भी वहां पहुंच गए

चित्रलेखा जी के हाँस्पीटल में विपुल गोयल ने मनाया गोपाष्टमी का पर्व

गौ पूजन व गौभंडारा कर मनाया गया गोपाष्टमी का पर्व चित्रलेखा जी के हाँस्पीटल में विपुल गोयल जी ने मनाया गोपाष्टमी का पर्व गोपाष्टमी पर हुआ गायों का पूजन देशी-विदेशी भक्तों सगं मनाया गया गोपाष्टमी का पर्व   करमन बार्डर स्थित देवी चित्रलेखा जी के गौसेवा धाम हाँस्पीटल में विगत शुक्रवार को गोपाष्टमी का पर्व वड़ी धूमधाम से मनाया गया।  आस-पास के साथ दूर-दराज तथा विदेश तक से आये श्रद्धालुओं ने प्रातःकाल हवन, कीर्तन के बाद समूचे गौसेवा धाम की परिक्रमा के साथ कार्यक्रम का श्रीगणेश किया।  तत्पश्चात मुख्य अतिथि के रूप में हरियाणा सरकार के उघोग एवं पर्यावरण मंत्री श्री विपुल गोयल ने गायों को गुड़ खिलाकर गोपाष्टमी पर आयोजित गोष्ठी की शुरूआत की। उन्होनें बताया कि भगवान कृष्ण ने 5 साल 2 माह की उम्र में गायों को सर्वप्रथम चराना प्रारंभ किया था तभी से गोपाष्टमी का पर्व मनाया जाने लगा। साथ ही श्री गोयल ने प्रदेश सरकार की उपलब्धि बताते हुये कहा कि सरकार ने गौवंश की सेवा हेतू गौसेवा आयोग के नाम से एक विभाग की स्थापना की है जो कि गौवंश के संवर्धन पर कार्य करता है। गौसेवा धाम हाँस्पीटल में की जा रही असहाय गौंवश की सेवा से प्रभावित होकर उन्होनें 11 लाख रूपये का सहयोग भी देने का आश्वासन दिया व आगामी समय में एक बड़ी अल्ट्रसाउंड मशीन हरियाणा सरकार से दिलावाने का भी आश्वासन दिया। गौ सेवा धाम संचालिका देवी चित्रलेखाजी ने गोपाष्टमी को महत्व को समझते हुए बताया की कार्त‍िक मास के शुक्‍ल पक्ष की अष्‍टमी को गोपाष्‍टमी के रूप में मनाया जाता है. इस दिन भगवान श्रीकृष्ण ने गौ चारण लीला शुरू की थी. गाय को गोमाता भी कहा जाता है. क्‍योंकि गाय को मां का दर्जा दिया गया है. ऐसी मान्‍यता है क‍ि इसी द‍िन बाल कृष्‍णा और बलराम ने गाय चराना शुरू क‍िया था. एक दूसरी कहानी जो प्रचल‍ित है, उसके अनुसार ऐसा कहा जाता है क‍ि बाल कृष्‍ण ने माता यशोदा से इस द‍िन गाय चराने की ज‍िद की थी और यशोदा मइया ने कृष्‍ण के प‍िता से इसकी अनुमत‍ि मांगी थी. नंद महाराज से अनुमत‍ि दे दी और एक ब्राह्मण से म‍िले. ब्राह्मण ने कहा क‍ि गाय चराने की शुरुआत करने के ल‍िए यह द‍िन अच्‍छा और शुभ है. इसल‍िए अष्‍टमी पर कृष्‍ण ग्‍वाला बन गए और उन्‍हें गोव‍िन्‍दा के नाम से लोग पुकारने लगे   समस्त आयोजन में आसपास की समस्त गौशालों के प्रधाऩ व समस्त चैबीसी की सरदारी पंच तथा सरपंच, देश व विदेश से आये गौभक्त मुख्य रूप से उपस्थित रहे। कार्यक्रम के अंत में उपस्थित हजारों की संख्या में आये हुये भक्तों के लिये भंडारा प्रसाद वितरित किया गया साथ में ही 10 से ज्यादा गौशालाओं की 10 हजार से अधिक गायों के लिये गौ महाभोज हेतू हरा चारा, खीर, मीठा दलिया, हरी सब्जियाँ, गुड़, हजारों ताजी रोटियाँ आदि गौसेवा धाम में तैयार कर गौशालाओं को भिजावाई गयी।  

Join your hand with us for a better life and beautiful future.